जिस गम ने जीना सिखाया, बस उसका तकाजा है

love shayari hindi shayari

जिस गम ने जीना सिखाया, बस उसका तकाजा है
कि दिल अब तक ढो रहा मुहब्बत का जनाजा है

उम्मीदों के फूल गुलशन में कबके मुरझा चुके
जो बचा है खिजां में वो कांटों का तमाशा है

सावन से कह दो कि मेरे आंगन में ना बरसे
यहां पहले से आंखों को बरसने में मजा सा है

मुंतजिर है तेरी राह देखता कबसे एक मुसाफिर
उसको तेरे हुस्न में सुकूं पाने का दिलासा है

©RajeevSingh #love shayari

About these ads

shayari – usko tere husn me sukoon pane ka dilasa hai

love shayari hindi shayari

Jis Gham Ne Jeena Sikhaya, Bas Uska Takaza Hai
Ki Dil Ab Tak Dho Raha Muhabbat Ka Janaza Hai

Ummidon Ke Phool Gulshan Me Kabke Murjha Chuke
Jo Bacha Hai Khizan Me Wo Kanton Ka Tamasha Hai

Sawan Se Kah Do Ki Mere Aangan Me Na Barse
Yahan Pahle Se Aankhon Ko Barasne Me Maza Sa hai

Muntzir Hai Teri Raah Dekhta Kabse Ek Musafir
Usko Tere Husn Me Sukoon Pane Ka Dilasa Hai

muntzir- इंतजार में, in waiting
takaza- demand

©RajeevSingh #love shayari