शायरी – तनहा सफर में दर्द की आग जो भड़की

new prev new shayari pic

चिरागों को जलाने से रात रंगीन होती है
दिल को जलाने से ये गमगीन होती है

मेरी आंखों की उदासी बढ़ती है जितनी
एक हुस्न की सूरत और भी हसीन होती है

टूटकर भी बार बार वो ज़हन पे छा गई
रातभर ख्वाबों में एक नाजनीन होती है

तनहा सफर में दर्द की आग जो भड़की
वो चुभने वाली शोलों की संगीन होती है

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements