शायरी – तुम भले ही किसी गैर की बाहों में रहो

love shyari next

मेरे आंगन में रोशनी भले ना रहे
तेरे दामन में चांदनी हमेशा रहे

मर भी जाऊं तो कफन मिले ना मिले
मेरे खातिर तेरी ओढ़नी हमेशा रहे

तुम भले ही किसी गैर की बाहों में रहो
तेरे दिल में एक जोगनी हमेशा रहे

तेरे आशिक के हर दर्द भरे नज्मों में
गमे-उल्फत की ये रागिनी हमेशा रहे

©RajeevSingh # बेस्ट शायरी

19 thoughts on “शायरी – तुम भले ही किसी गैर की बाहों में रहो”

  1. Sujata teri yad me mai eyu tarapata rahuga thu kab tak tarapati rahegi intajar karata rahuga

Comments are closed.