इश्क क्या है

शायरी – तेरे जैसा कोई भी गजल हो न सका

शायरी मेरी तन्हाई में किसी का दखल हो न सका मेरी किस्मत में कभी भी बदल हो न सका यूं तो लिखी हैं हमने तुझपे ही सैकड़ों गजलें पर तेरे जैसा कोई भी गजल हो न सका

love shayari hindi shayari

मेरी तन्हाई में किसी का दखल हो न सका
मेरी किस्मत में कभी भी बदल हो न सका

यूं तो लिखी हैं हमने तुझपे ही सैकड़ों गजलें
पर तेरे जैसा कोई भी गजल हो न सका

मैं भी एक आशियां में बंद हूं दुनिया की तरह
तेरे बिन कैद में सुकूं से बसर हो न सका

इतनी बेचैनी है कि रूह निकल न जाए कहीं
हिज्र में मौत से भी मेरा मिलन हो न सका

(हिज्र- जुदाई)

Advertisements
Advertisements