शायरी – इश्क के इस दाग का एक बेवफा से रिश्ता है

love shyari next

इश्क के इस दाग का एक बेवफा से रिश्ता है
इस दुनिया में सदियों से आशिक का ये किस्सा है

दर्दे-दिल की आग को कोई सागर क्या बुझाएगा
दिलजला तो मौत के पहलू में जाकर ही बुझता है

हर सितम एक आईना है, तुमको देखूं बार-बार
खूने-जिगर तो तेरी जफा ही पाने को तरसता है

कागज के फूलों की खुशबू भर जाती है आंखों में
तेरे इन पुराने खतों में तेरा साया दिखता है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

10 thoughts on “शायरी – इश्क के इस दाग का एक बेवफा से रिश्ता है”

Comments are closed.