शायरी – किस तरह मैं अपने ही दिल को बेवफा लिखूं

love shyari next

कौन से लफ्ज़ में मैं दर्द की सदा लिखूं
किस तरह मैं अपने ही दिल को बेवफा लिखूं

इन अंधेरों की खामोशी में है रूह मेरी
और उजालों में दिखे जिस्म को जनाजा लिखूं

साज के रोते हुए सुर मुझे कुछ कहते हैं
इन सुरों को मैं किसी नज्म का आईना लिखूं

सात रंगों को लिखता हूं मैं इंद्रधनुष
सैकड़ों जख्म की रंगत को आशना लिखूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

2 thoughts on “शायरी – किस तरह मैं अपने ही दिल को बेवफा लिखूं”

  1. तूफान भी आना जरुरी है जिंदगी में तब जा कर पता चलता है की
    कौन हाथ छुड़ा कर भागता है और कौन हाथ पकड़ कर

    147

Comments are closed.