दर्द जिंदा शायरी

शायरी – इश्क में रोने से बेहतर तो आँसू को पी जाना है

prevnext

इश्क में रोने से बेहतर तो आँसू को पी जाना है
दर्द को भरके इन आँखों में होठों से मुसकाना है

क्या जाने वो उनके खातिर कोई कितना रोता है
अपने आँसू के साये से उनको हमें बचाना है

उनको अपने दिल में बसाकर दर्द को जिंदा रखूँगा
मैं शैदाई और क्या चाहूँ, यही जीने का बहाना है

जितने जलवे देखे दुख के, सारे जलवे फीके हैं
उनसे जुदाई के दुख को बस अपने गले लगाना है

शैदाई – आशिक

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

2 thoughts on “शायरी – इश्क में रोने से बेहतर तो आँसू को पी जाना है”

Comments are closed.