रंग इश्क ये इमेज शायरी

शायरी – मेरी उदासियाँ भी सुनाएगी दास्ताँ

prevnext

महसूस करेगा वो मेरे दर्द की जुबाँ
मेरी उदासियाँ भी सुनाएगी दास्ताँ

पतझड़ की बारिशों में वो भीग गया है
अब धूप के लिए जलाएगा आशियाँ

लाएगा रंग इश्क ये उसमें इस तरह
अपनी चिता के वास्ते खोजेगा लकड़ियाँ

अपने ही लहू से लिखेगा मेरा नाम
अपने ही खंजर से तराशेगा ऊंगलियाँ

©RajeevSingh #love shayari

One thought on “शायरी – मेरी उदासियाँ भी सुनाएगी दास्ताँ”

Comments are closed.