शायरी – दिल जो तोड़ा तो किया कोई बुरा काम नहीं

prevnext

दिल जो तोड़ा तो किया कोई बुरा काम नहीं
जानेमन तेरी मुकम्मल कोई दास्तान नहीं

जो अधूरा हो मगर फिर भी पूरा लगता हो
सिवाय इश्क के है ऐसा कोई मुकाम नहीं

मंजिलों के लिए मरते हैं वो मुसाफिर ही
जिनके सर पे आवारगी का इल्ज़ाम नहीं

कभी छोटी सी एक बात बुरी लगती थी
आज कितनी भी बड़ी बात से परेशान नहीं

©RajeevSingh #love shayari

3 thoughts on “शायरी – दिल जो तोड़ा तो किया कोई बुरा काम नहीं”

Comments are closed.