शायरी – तेरे लब की दिलकश परेशानी भी देखी

prevnext

पिंजरे में बुलबुल की जिंदगानी भी देखी
कांटों में एक गुल की जवानी भी देखी

हर पल दर्द का एक नया मोड़ लेती
मुहब्बत की कमसिन कहानी भी देखी

सौतन की दुश्मनी को भी मात देती
दुनिया की बेरहम कारस्तानी भी देखी

मेरे इश्क को ठुकराने से ठीक पहले
तेरे लब की दिलकश परेशानी भी देखी

कितनी चोटें तूने छोड़ी मेरे दिल पे
तेरे जख्मों की हर एक निशानी भी देखी

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements