शायरी – तेरे आने के भरम से सांस लेता हूं

love shyari next

ये न पूछो कि मैं कैसे जिए जाता हूं
तेरे आने के भरम से सांस लेता हूं

तेरी उम्मीद अब नशा बन गई साकी
इश्क के मैखाने में सुबहो शाम पीता हूं

देखकर मेरी तरफ जमाना अब हंसता है
और एक मैं तेरी तस्वीर देख रोता हूं

कहां फिसलके आ गिरी है जिंदगी मेरी
आके संभालो कि राहों में गिर पड़ता हूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari