दर्दे दिल शायरी

शायरी – कातिल से मोहब्बत कर बैठे

शायरी खुद ही से अदावत कर बैठे कातिल से मोहब्बत कर बैठे वही अपना न रहा इस शहर में जिनके लिए हम सबसे लड़ बैठे

love shayari hindi shayari

खुद ही से अदावत कर बैठे
कातिल से मोहब्बत कर बैठे

वही अपना न रहा इस शहर में
जिनके लिए हम सबसे लड़ बैठे

उनके चर्चे जब हरसू होने लगे
सारे इल्जाम मेरे सर वो धर बैठे

खोजें जीने का कोई और ठिकाना
मिलने लगे हैं ताने अब घर बैठे

अदावत –  दुश्मनी
हरसू – हर तरफ

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements
Advertisements