शायरी – नशीली रातों को तुझपे नाज आज भी है

new prev new next

हसीन वादियों में तेरी याद आज भी है
इन फिजाओं में तेरी आवाज आज भी है

कैसे भूलेंगे लोग आसानी से मोहब्बत को
दुनिया में शाहजहां का ताज आज भी है

दिलवालों का सर कलम कर देने के लिए
सदियों का यह दुश्मन समाज आज भी है

आंख लगती है तो तेरे ही ख्वाब आते हैं
नशीली रातों को तुझपे नाज आज भी है

©RajeevSingh