शेर ओ शायरी – कुछ अरमां आंसुओं में भीगे हैं

new prev new shayari pic

तेरे आंचल की हवा जो लग जाए
ये दिल की आग तो भड़क जाए

कुछ अरमां आंसुओं में भीगे हैं
जाने कब किस घड़ी दहक जाए

चांद पाने की अब जरूरत क्या
जब तुझे देख अक्स चमक जाए

गुलाबों जैसे तेरे इन खयालों में
मुहब्बत भरी ये रात महक जाए

©rajeev singh shayari

Advertisements