शायरी – दोस्त बनाकर उसने मेरा कत्ल किया

new prev new shayari pic

घर घर की कहानी जान मुझे हैरानी है
रिश्तों के पीछे कितनी नमकहरामी है

बेईमानों की जेब में तो अब समंदर है
ईमानों के रेगिस्तान में क्यों वीरानी है

खुदा क्या इश्क भी वो नहीं जानती
लोग कहते हैं कि वो बहुत दीवानी है

दोस्त बनाकर उसने मेरा कत्ल किया
उसकी सूरत पे शिकन न परेशानी है

©राजीव सिंह शायरी