शायरी – गम के मारों में तो समंदर छुपा होता है

new prev new shayari pic

इतना दर्द आंखों के अंदर छुपा होता है
गम के मारों में तो समंदर छुपा होता है

जिसे खुदा के सिवा किसी का खौफ नहीं
उसी शख्स में तो सिकंदर छुपा होता है

हुस्न के चेहरे से जब खामोशी छलकती है
वहीं सच्चे आशिक का मंजर छुपा होता है

ऐसी दुनिया में अकेले ही रह गए हैं जहां
रिश्तों की आस्तीन में खंजर छुपा होता है

©राजीव सिंह शायरी