शायरी – जुर्म यहां छुपना है मुश्किल

new prev new shayari pic

जो उस खुदा का बंदा होगा
दुख में भी भला चंगा होगा

जुर्म यहां छुपना है मुश्किल
मुजरिम कभी तो नंगा होगा

दिल का जब भी राज चलेगा
फिर कैसे कहीं पे दंगा होगा

सच्ची राह जो शख्स है चुनता
उसका दुनिया से पंगा होगा

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements