शायरी – तूने आशिकी में मेरे दिल के टुकड़े किए

love shayari hindi shayari

जख्मे-दिल सीने में दरिया सा बहता है
मेरे खूने-जिगर में तेरा खंजर रहता है

तूने आशिकी में मेरे दिल के टुकड़े किए
तेरा जाना मुझे शीशे की तरह चुभता है

कोई अंजाम बाकी नहीं मेरे जीवन में
दर्द ही दर्द आठों पहर आंखों से रिसता है

जहां भी रहो, तुम खुश रहना मेरी जान
ये दिल तेरी खातिर यही दुआ करता है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

2 thoughts on “शायरी – तूने आशिकी में मेरे दिल के टुकड़े किए”

  1. teri rahon meaankhe bichay bethe he.tere aane ki ummed lgaye bethe he.jo rheti he sanse sine me dil ke sath. wo b hum tum pe lutay bethe he. N.v.B sayar khan 9536006438

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.