खुदगर्ज दुनिया की शायरी ईमेज

खुदगर्ज दुनिया शायरी ईमेज

जब चलते हैं खुदगर्ज दुनिया की भीड़ में
राहों पे अक्सर खुद को तन्हा बना लेते हैं

जिंदगी का हर पल दर्द में डूबा है, खुशियों का कारवां तुम्हारी गलियों में खोया है, तेरे शहर की ख्वाहिश तो है मुझे, तेरी जिंदगी की बहुत जरूरत है मुझे।

Leave a Reply