चांद का कातिल शायरी ईमेज

कातिल इश्क शायरी ईमेज

आखिर रात का बादल ही चांद का कातिल बनता है
सोचता हूं कि तेरे बिन अब इन रातों की सुबह न हो

Advertisements

दिल भी तेरा, हम भी तेरे, जपते हैं ये सांझ सबेरे, कब आओगे तुम आंखों में, कब होंगे मेरे सपने पूरे, तुमसे मिलने की तमन्ना, तुम बिन हम आधे अधूरे।

Advertisements

Leave a Reply