Tag Archives: दगा शायरी

शायरी – जिन्हें देखिए वही बेवफा, अपने यहां देते हैं दगा

love shayari hindi shayari

जिसे दर्द है, वहीं सोग है, जहां इश्क है, वहीं जोग है
ये दुनियावाले क्या जानें, जो कहते हैं ये रोग है

मैं टूटकर जुड़ा नहीं, ईमान से गिरा नहीं
जहां आंसू देखा, रो पड़ा, मेरा दिल इतना कमजोर है

जिन्हें देखिए वही बेवफा, अपने यहां देते हैं दगा
किनसे कहूं ये बातें भी, सब तो यहीं के लोग हैं

तकदीर का मैं क्या करूं, जो भी दिया, दुख ही दिया
मेरा जीना भी संयोग है, न मरने में मेरा दोष है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – ये दगा देने की आदत जो तेरे खून में है

love shayari hindi shayari


बेवफाई की सजा न किसी कानून में है
ये दगा देने की आदत जो तेरे खून में है

हमें जमाने में जीकर कोई खुशी न मिली
एक दीवाने का मजा इश्क के जुनून में है

मेरी खामोश सदा पे सबने ये सोचा
लिफाफा बंद है, जाने क्या मजमून में है

अगर बुरा न लगे तो मैं ये बात कहूं
ये जिंदगी तो बस इस रूह के सुकूं में है

सदा – call, पुकार


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – बस यही सोचके तुम्हें याद किया करता था

love shayari hindi shayari

वो भी क्या रातें थी जब खूब जगा करता था
क्या खबर थी कि मैं खुद से दगा करता था

जो हकीकत भी नहीं था, फसाना भी नहीं
मैं कहीं बीच की मंजिल पर रहा करता था

फासलों में भी कई तार थे जुड़ने के लिए
बस यही सोचके तुम्हें याद किया करता था

कुछ शिकायत थी तुमसे भी, खुद से भी
जाने कुछ दर्द था, गजल में लिखा करता था

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – एक दिन दिल तोड़ता है वो शख्स मुस्कुराकर

prevnext

आजमा कर देखिए हर शख्स को दुनिया में
वो पहले वफा दिखाते हैं, फिर दगा करते हैं

वफा करते हैं ताकि ऐतबार वो पा ले आपका
फिर बेवफाई का फर्ज वो अदा करते हैं

वो अपना काम निकालते हैं कुछ इस हुनर से
कि आप धोखे खाकर भी उनसे मिला करते हैं

आपकी जान कब वो लेगा, ये खबर नहीं आपको
और आप उनकी सलामती की दुआ करते हैं

एक दिन दिल तोड़ता है वो शख्स मुस्कुराकर
रो-रो के तब खुद ही से आप गिला करते हैं

होता है तज़रबा ऐसा कि दुनिया की राह पे
आदमी से बच-बच कर आप चला करते हैं

परायों को तो खैर आप दुश्मन समझते ही हैं
अपनों से भी डर-डर कर रहा करते हैं

कोसते रहते हैं अपनी जिंदगी को उम्रभर
भीड़ में हंसते हैं मगर तन्हाई में रोया करते हैं

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – खिलके गुलाब की तरह मुरझा कर गिर गया

prevnext

जाते-जाते वो मेरे खूँ में जहर भर गया
उसकी याद में जीके मैं आठों पहर मर गया

आशना के चार दिन ऐसे तज़रबे दे गए
खिलके गुलाब की तरह मुरझाकर गिर गया

उनकी तरफ बढ़ाया था बेखुदी में दो कदम
होश आया तो लगा कि खुद से दगा कर गया

किस दिल में मिलता है इस जहान में वफा
इसकी तलाश में भला क्यूँ किसी के घर गया

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – हाले दिल वो प्यार से पूछने आए

love shyari next

हाले दिल वो प्यार से पूछने आए
मेरी कमजोरी को वो परखने आए

कौन क्या है कहना मुश्किल है
लोग ऐसे-ऐसे मेरे सामने आए

दगा देकर भी हंसते रहते हैं
ऐसे चेहरों के अब तो मौसम आए

आजकल प्यार सरेआम बरसता है
हमारे पास धोखे खाकर कितने आए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari