Tag Archives: extra marital love story

बीवी से परेशान हूं, उसकी शादीशुदा सहेली से शादी करना चाहता हूं….

मैं लखनऊ से समर हूं। मैं शादीशुदा हूं और मेरे दो बच्चे हैं। मेरी लव मैरिज हुई थी। पहले तो सब नॉर्मल था पर बाद में हम दोनों में दूरियां बनने लगीं। मेरी वाइफ मुझे मेरे परिवार से दूर ले जा रही है। मैं कहीं भी बात करूं तो मुझे बताना पड़ता है कि मैंने किससे बात की। हर बात में वो शक करती है।

इस बीच फोन पर मेरी बीवी की शादीशुदा सहेली से मेरी बात होने लगी। पहले तो सब नॉर्मल था लेकिन बाद में हम दोनों बात करते-करते एक-दूसरे से अपना सुख-दुख शेयर करते-करते करीब आ गए, पर हम कभी मिले नहीं। एक-दूसरे से बस फोन पर ही बात करते रहे।

vishal story two

बीवी की सहेली भी अपने पति से परेशान है और वो भी छुटकारा चाहती है। मैं भी अपनी बीवी से मुक्ति पाना चाहता हूं। वो अपने पति को तलाक देकर मेरा साथ देने को तैयार है लेकिन मेरी बीवी के नाम मैंने अपनी सारी प्रॉपर्टी लिख दी है। बीवी कहती है कि तुमको जाना है तो जाओ पर प्रॉपर्टी मेरी है। वो मुझे डाइवोर्स भी नहीं दे रही है, मैं क्या करूं?

मैं बीवी की सहेली से बहुत ज्यादा प्यार भी करने लगा हूं। क्या करूं, बताइए…

पेज एडमिन की बात-
दूर के ढोल सुहावन लगते हैं, ये कहावत आपने सुनी होगी। लवर जितना ही दूर होता है, आकर्षण उतना ही ज्यादा होता है और सपने उतने ही ऊंचे होते हैं। आपने पहला प्यार किया होगा तब भी ऐसा ही हुआ होगा। लेकिन शादी करके साथ रहते-रहते वही ढोल की आवाज आज आपको परेशान कर रही है तो आप फिर दूर का ढोल सुनने लगे।

प्रॉपर्टी तो आपकी ही है भले वो पत्नी के नाम हो, अभी हाल में कोर्ट ने एक फैसले में ऐसा कहा है। लेकिन सवाल ये है कि फिर जिस ढोल की आवाज आपको सुहावन लग रही है, क्या वो फिर पास आते ही आपकी जिंदगी में संगीत भर पाएगी…।

बीवी के साथ आपके रिश्ते पर मैं कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता। आपका निजी मामला है। बीवी से आपको प्यार था तभी आपने सारी प्रॉपर्टी उनके नाम लिख दी। दो बच्चे भी हैं आपके…ये सब होते हुए भी पारिवारिक परेशानी के बीच आपने उनकी सहेली को हमदर्द बना लिया और अफेयर कर लिया..अब शादी की बात सोच रहे हैं…सारा रायता फैला दिया…अब समेटिए..मुझे नहीं लगता कि आपकी शादी बीवी की सहेली से हो पाएगी….सहेली के पति को पता चलेगा तो ये ड्रामा संभालना आपके लिए मुश्किल हो जाएगा…

Advertisements

मैंने उसके लिए दुनिया छोड़ दी और वो फिर भी मुझे भूल गया – प्रीत की लव स्टोरी

मेरा नाम प्रीत है और मैं एक मिड्ल क्लास की हैंडिकैप लड़की हूं। उससे मेरी मुलाकात कोचिंग इंस्टीट्यूट में हुई थी। वो मुझे पहली नजर में ही बहुत अच्छा लगने लगा और मैं उसके पास वाली सीट पर ही बैठने लगी। धीरे-धीरे उसको भी मुझसे प्यार हो गया और वो मुझे देखने मेरी गली में आने लगा।

preet love story
—–
कुछ समय के बाद मेरी शादी की बात घर में होने लगी। जब मैं उससे ये कहती तो वो बहुत रोता और कहता कि मैं तेरे बिना नहीं रह सकता। मुझे भी उस पर पूरा भरोसा था पर हमारा धर्म अलग-अलग था और मेरे पैरेंट्स की समाज में एक पहचान थी जिस वजह से मैं ब्वॉयफ्रेंड के साथ शादी के बारे में कभी सोच नहीं पाई।
—–
वो भी ये जानता था कि शादी नहीं हो सकती तो हमने कभी शादी का सपना भी नहीं देखा पर एक वादा किया था कि हम एक दूसरे को कभी भी नहीं भूलेंगे। एक दिन मेरी शादी हो गई और जब मेरे फेरे हो रहे थे तो वो मेरे सामने बैठा बहुत रो रहा था। मुझे बहुत दुख हुआ कि मैं उसे छोड़कर जा रही हूं। कहीं वो कोई गलत कदम न उठा ले।
—-
मैंने उसके दोस्तों से उसका ख्याल रखने को बोला और मैं ससुराल आ गई। ससुराल में सब मुझे अपाहिज समझ रहे थे क्योंकि उन लोगों ने शादी सिर्फ दहेज के लिए ही की थी। मुझे वहां किसी का भी नेचर समझ नहीं आया। मेरे हसबैंड ने तो पहली रात में ही अपना असली रूप दिखा दिया। मैंने सब बर्दाश्त किया। सब लोग सिर्फ पैसों की ही बात करते रहते थे।
—–
मेरा दिमाग खराब होने लगा और हसबैंड से मेरी लड़ाई होने लगी। मुझे मेरे प्यार की याद आने लगी और मैं कुछ दिनों के लिए मायके आ गई। मैं जैसे ही स्टेशन पर उतरी, मेरा ब्वॉयफ्रेंड मेरे सामने था। बहुत बेबस सा, मायूस सा, मुझे उसको देखकर बहुत दुख हुआ। मैंने उससे बात की तो उसने मुझे अपने दोस्त के घर मिलने बुलाया।
—–
दोस्त के यहां वो मेरे गले लगकर बहुत रोया। बोलोा कि मैं नहीं जी पाऊंगा तेरे बिना। कहने लगा कि मैं आज तेरे सामने ही जान दे दूंगा। मैंने बहुत समझाया पर कुछ भी सुनने को तैयार नहीं था। मैंने पूछा कि क्या चाहते हो तुम, अब तो मेरी शादी हो चुकी है और अब तुम्हारा ये पागलपन सही नहीं है, तुम भी जल्दी शादी कर लो।

मेरी बात सुनकर उसने कहा कि ये नामुमकिन है, मैं तेरे जैसा नहीं हूं जो मुझे अकेला छोड़कर चली गई, मैं तेरी कसम खाता हूं कि तब तक शादी नहीं करूंगा जब तक तू मुझे अपना नहीं लेती, तू ससुराल छोड़ दे, वहां तुझे कोई नहीं चाहता, तू यहीं रह।
—-
ब्वॉयफ्रेंड ने कहा कि छोड़ दो अपने पति को जिसको तेरी परवाह नहीं। मेरे मन ने उसकी बात मान ली और मैं ज्यादातर मायके में ही रहने लगी। वो मुझे मेरी गली में रोज आकर देखता था। फोन पर उससे घंटों बातें होती थी। कई महीने बीत गए और मैंने उसके लिए अपने हसबैंड को अहमियत नहीं दी।
—–
एक दिन उसको किसी दूसरे शहर से जॉब का ऑफर आया और वो मुझे यहां छोड़कर चला गया। वहां उसकी एक दूसरी लड़की से दोस्ती हो गई और वे दोनों बहुत करीब आ गए। उसने मेरा फोन उठाना भी कम कर दिया। एक दिन मैंने फोन किया तो उसी लड़की ने उठाया। मैंने उसको अपने बारे में सारी बातें बता दी तो उसने कहा कि अगर आप उससे शादी कर सकती हो तो मैं उसे छोड़ दूंगी।
——
मैं यहां उसकी यादों में रोती रहती हूं। जो मेरे लिए आंसू बहाता था वो आज मुझे भूल गया। इधर मेरे ससुरालवाले भी नहीं चाहते कि अब मैं वहां रहूं और मेरा बीएफ भी मुझे भूल गया। जिसके लिए मैंने दुनिया छोड़ दी, क्या वो मेरा सच्चा दोस्त बनकर नहीं रह सकता था। आप ही बताइए, अब मेरे लिए क्या रास्ता है?

मैं पति से प्यार नहीं करती और बीएफ के लिए सबकुछ छोड़ सकती हूं – सिया की एक्सट्रा मैरिटल लव स्टोरी

मैं बिहार से सिया हूं। मेरी शादी 15 साल की एज में हो गई थी। मेरे दो बच्चे हैं। उस टाइम मैं समझदार नहीं थी तो पता नहीं था कि हसबैंड वाइफ का रिश्ता क्या और कैसा होता है। वो अपने एक कजिन के साथ भी रिश्ता बनाए हुए था। मैं पागल कुछ नहीं समझती थी। ऐसा करते-करते पांच साल बीत गए थे। फिर मैं प्रेग्नेंट हो गई और मेरी बेटी आ गई।

siya extra marital love story
—–
हम दोनों के बीच लड़ाई झगड़ा कभी खत्म नहीं हुआ न ही मैं अपने घरवालों को बता पाई। फिर 5 साल बाद दूसरी बेटी भी हो गई। मैंने हसबैंड की लड़ाई पर ध्यान देना बंद कर दिया। 2 साल पहले मेरी मां की डेथ हो गई और मैं अकेली पड़ गई। मैंने फोन यूज करना शुरू कर दिया।
—–
एफबी चलाने लगी तो एक लड़के से मेरी दोस्ती हुई। बात करने लगी। मैंने उसको अपने बारे में सबकुछ बता दिया। मैं उसके प्यार में पड़ गई। हसबैंड को पता चला तो मुझे मारा-पीटा। इसके बाद उस लड़के ने भी कॉन्टेक्ट तोड़ लिया। मेरा हसबैंड के साथ रिश्ता बस शरीर तक सीमित रह गया है। दो साल बाद अब वो लड़का फिर से मेरी जिंदगी में लौट आया है।
—–
लड़के ने कहा कि तुम्हारा हसबैंड तुमको परेशान कर रहा था इसलिए दूर हो गया था। उसके घरवालों ने उसकी शादी की बात चलाई तो उसने मुझे बताया कि मेरे बारे में उसने घर में बता दिया है। मैं अब उसके लिए सबकुछ छोड़ सकती हूं लेकिन वो बोलता है कि पहले बच्चों को देखो, मैं तुम्हारे साथ हूं।
—–
उसको मैं बोल चुकी हूं कि मैं तुम्हारे साथ भाग सकती हूं, वो फिर भी मना कर रहा है। वो बोलता है कि आगे बच्चों का क्या होगा, दुनिया क्या बोलेगी उनको। वो मेरा इंतजार कर सकता है, मुझे पता है। उसने कभी भी मुझसे मिलने के लिए नहीं बोला, ना हम कभी मिले हैं।
—–
उसने एक दिन सवाल किया कि मैं उससे कितना प्यार करती हूं तो मैंने कहा कि जितना मैं बच्चों से प्यार करती हूं, उससे एक कदम ज्यादा। फिर उसने कहा कि मैं प्यार पाने में तुम्हारे बच्चों से एक कदम पीछे रहना चाहता हूं।
——
उसको शादी की जल्दी नहीं है। वो बोलता है कि पहले बच्चों की शादी करोगी फिर अपना सोचना। पति से मेरा तो दो साल मेरा रिलेशन खत्म है, बस फिजिकल रह गया है। मैं बस उस लड़के के बारे में सोचती रहती हूं। पर अब शायद उसके पास मेरे लिए टाइम नहीं है। वो कहता है कि वो शायद ज्यादा दिन नहीं जिएगा। अभी हाल में हॉस्पिटल से आया है। उसने बताया कि 15 दिन तक वह हॉस्पिटल में रहा। उसके घरवाले मुझे दोषी ठहरा रहे हैं।
——
उसके घरवाले कह रहे हैं कि मेरी वजह से वो हॉस्पिटल गया है। मुझे उसने बताया कि मुझसे दूर होने की वजह से वह ड्रग्स लेने लगा था जिस वजह से वह बीमार हो गया। मैं बस उसकी खुशी चाहती हूं और उसके लिए परेशान रहती हूं।

मेरे पति मेरा केयर नहीं करते और बीएफ का नेचर भी बदल गया है

मैं आगरा से शिखा हूं। मैं जब शादी करके ससुराल गई तो वहां मेरा पति अजीब निकला। वे मेरे साथ मार-पीट गाली-गलौज करता है। मेरी कभी केयर नहीं की, कभी प्यार नहीं किया। उसको सिर्फ मेरे शरीर से मतलब है। मैंने बहुत कोशिश की एडजस्ट करने की, उसे समझाने की लेकिन उसमें कोई सुधार नहीं हुआ।

shikha extra marital affair story
——-
मैं मानिसक रूप से टूट गई और सहारा खोजने लगी। आगरा में ही मेरी फ्रेंडशिप एक से हुई। वो भी शादीशुदा है। हम दोनों में दोस्ती बढ़ गई और हम साथ बाहर मिलने लगे। उसने मुझे काफी इमोशनल सपोर्ट दिया और मैं उससे प्यार करने लगी। वो भी कहता था कि मैं तुमसे प्यार करता हूं।
——-
कुछ दिनों से उसका नेचर चेंज होने लगा है। मैं जवाब मांगती हूं तो कहता है कि बिजी हूं। वो कहता है कि अगर मुझे तुमसे रिश्ता तोड़ना होता तो तुमको ब्लॉक कर देता। वो अब फेसबुक या वाट्सऐप पर आता है लेकिन मैं उसको मैसेज करती हूं तो वो देखता ही नहीं। कॉल भी नहीं उठाता।
——
मैं अब बहुत परेशान हूं। मेरी एक दोस्त मुझे कहती है कि ऐसे लोगों को सबक सिखाना चाहिए जो दिल को खिलौना मानकर उसका इस्तेमाल करते हैं लेकिन मैं कहती हूं कि क्या सबक सिखाऊं, वो कुछ भी मेरे बारे में सोचे पर उसने अभी साफ मना नहीं किया है और अगर वो मना कर भी देता है तो भी मैं उससे प्यार करती हूं, उसकी परवाह करती हूं।
—–
वो मुझे इग्नोर कर रहा है। मैं काफी परेशानी से गुजर रही हूं। मैं उससे प्यार करती हूं। मेरी मैरिज लाइफ बहुत खराब है, इससे निकलना मुश्किल है लेकिन जीने के लिए एक सहारा मिला तो वो भी छिन गया है।

उसकी शादी हो चुकी है लेकिन वो अब कहती है कि मुझसे शादी कर लो

मैं शुभम हूं। मैं एक लड़की को बहुत चाहता था लेकिन यह नहीं जानता था कि यह चाहत सिर्फ आकर्षण है या फिर प्यार। हम दोनों एक दूसरे को बचपन से जानते थे। हम दोनों कोलकाता में केजी क्लास से पांचवीं तक साथ पढ़े थे। बचपन में काफी गहरी दोस्ती थी। पांचवीं के बाद हम दोनों अलग स्कूल में पढ़े और साथ भी छूट गया।

shubham love story
—-
12वीं में फिर हम दोनों एक ही स्कूल में थे लेकिन सात सालों की दूरी के बाद जब मिले तो हम दोनों के रिश्ते की गहराई बचपन वाली नहीं थी क्योंकि हम बड़े हो गए थे। मैं उसे एवॉयड करता था और उससे बातचीत करने से कतराता था। एक दिन उसने मुझसे फिजिक्स का नोटबुक मांगा। दरअसल उसने कुछ क्लास मिस कर दिए थे इस वजह से उसको नोट्स चाहिए थे।
—-
इस नोटबुक की वजह से फिर हमारी बातचीत शुरू हुई। वो बहुत शर्मीली थी और शरारती भी। कभी-कभी बेहद इन्नोसेंट, बहुत भोली सी। मैं बहुत खुश था कि 7 साल बाद फिर उसे देखा, उससे मिला। हम दोनों ने साथ में ग्रेजुएशन 2013 में किया।
—-
एक दिन उसने कॉल किया और कहा कि मेरे साथ बाजार चलो, मुझे कुछ कपड़े खरीदने हैं। मैं बिना सोचे उसके साथ चल पड़ा। रास्ते में बात करते-करते अचानक उसने कहा, तुम मुझसे शादी करोगे। मैं शॉक्ड रह गया। मैंने कहा-व्हाट। इसके बाद वो जोर-जोर से हंसने लगी और मेरी आंखों में आंखें डालकर कहा कि अरे मजाक की थी बाबा, डोन्ट बी सीरियस।
—-
मैं उसके मजाक पर खामोश था। उस घटना के दिन जब हम वापस लौटे तो वो बिना मुझे बाय बोले ही घर के अंदर चली गई जबकि रोज वो मुझे बाय-बाय बोलती थी। उसके चलने का अंदाज भी कुछ अलग सा हो गया था। वह नॉर्मल नहीं थी। इसके कुछ दिन बाद तक उसने मुझसे कॉन्टेक्ट नहीं किया।
—-
कुछ महीने बाद मेरी गुवाहाटी में जॉब लग गई और मैं चला गया। दो महीने बाद मेरे पास एक फ्रेंड का कॉल आया जिसने बताया कि उस लड़की की अगले महीने शादी है। मैं यह सुनकर उदास नहीं हुआ क्योंकि मुझे हमेशा लगता रहा कि उसके साथ मेरा रिश्ता बस स्कूल टाइम का अट्रैक्शन था, और कुछ नहीं।
—–
उसकी शादी को एक साल हो गए। एक दिन उसका एक एसएमएस आया। मैसेज में उसने सैड इमोटिकोन्स भेजे थे और लिखा था, ‘दिल में आपकी हर बात रहेगी, बस्ती छोटी है मगर आबाद रहेगी, चाहे भुला देना सारे जमाने को, लेकिन आपकी प्यारी सी दिल्लगी हमेशा याद रहेगी।’
—–
इसके अगले ही दिन उसका कॉल आया और वो बहुत रो रही थी। उसने कहा, ‘मैं तुमसे ट्रू लव करती हूं। मैं बास्टर्ड पति के साथ नहीं जी सकती, वह मुझे पीटता है, टॉर्चर करता है, मुझसे पैसे मांगता है। मैं तुम्हारे साथ जीना चाहती हूं, मैं तुमसे शादी करना चाहती थी इसलिए पूछा था। मैं मजाक नहीं कर रही थी, वो मेरी सच्ची फीलिंग थी। मैं तुम्हारी हूं, मुझे एक्सेप्ट कर लो’। यह कहने के बाद फिर वो जोर-जोर से रोने लगी और रोती ही रही।
—–
मैं काफी असमंजस में पड़ गया। उसका रोना सुनकर मुझे अजीब सा लगने लगा और मुझे समझ में नहीं आया कि ऐसे में मुझे क्या करना चाहिए? मैंने उसे बहुत समझाने की कोशिश की कि समय के साथ सब ठीक हो जाएगा, अब तुम शादीशुदा हो। यह सुनकर और भी रोने लगती है। वह कहती है, ‘मैं कुछ नहीं जानती, मैं तुम्हारे साथ रहूंगी।’
—–
कुछ सप्ताह बाद मैं दीवाली पर घर गया था। वो भी ससुराल से आई थी। वहां हम दोनों बाहर मिले तो उसने फिर रोना शुरू कर दिया। वह मुझे पकड़कर बच्चों की तरह रोए जा रही थी। कुछ देर बाद वो अचानक बेहोश हो गई तो मैं घबरा गया। मैं उसे डॉक्टर के पास ले गया। डॉक्टर ने कहा कि इसके साथ समय बिताओ और इसे खुश रखने की कोशिश करो।
——
मैं काफी उदास और डरा हुआ हूं। वो शादीशुदा है। ऐसी परिस्थिति में मुझे क्या करना चाहिए, मैं कुछ समझ नहीं पा रहा, प्लीज गाइड मी। मैं उसे इस तरह उदास और रोते हुए नहीं देख सकता। अगर उसके साथ कुछ हो गया तो मैं अपने आपको जीवनभर माफ नहीं कर पाऊंगा। मैं बहुत दुविधा में हूं, कुछ समझ नहीं पा रहा।