शायरी – किसी को जिंदगी देने का मुजरिम हूं मैं

हर पल मरने की सजा दी मुझे उम्रभर के लिए

किसी को जिंदगी देने का मुजरिम हूं मैं

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.