शायरी – दूरियां बहुत हैं कश्ती और किनारे के दरम्यां

दूरियां बहुत हैं कश्ती और किनारे के दरम्यां

यूं ही होता है जब सारी राहें गुम हो जाती हैं

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.