4 लाइन शायरी 4 line shayari

शायरी – तेरी हर अदा पे ये इल्ज़ाम है

शायरी तेरी हर अदा पे ये इल्ज़ाम है लबो-ज़ुल्फ-आँखों पे इल्ज़ाम है क्यूँ लायी थी तुम सूरत में अपने मेरी बर्बादियों के जो सामान हैं

new prev new shayari pic

तेरी हर अदा पे ये इल्ज़ाम है
लबो-ज़ुल्फ-आँखों पे इल्ज़ाम है
क्यूँ लायी थी तुम सूरत में अपने
मेरी बर्बादियों के जो सामान हैं

Teri Har Adaa Pe Ye Ilzam Hai
Labo-Julf-Aankhon Pe Ilzam Hai
Kyon Layi Thi Tum Surat Me Apne
Meri Barbadiyon Ke Jo Saman Hain

©rajeev singh shayari

Advertisements

Leave a Reply