शायरी – भले ही उठ जाए तुमपर से भरोसा

new prev new shayari pic

भले ही उठ जाए तुमपर से भरोसा
ऐतबारे-इश्क उठना नामुमकिन है
कभी दामन न भींगे आँसू से मगर
दिल का रोना रुकना नामुमकिन है

Bhale Hi Uth Jaye Tumpar Se Bharosa
Aitbar E Ishq Uthna Namumkin Hai
Kabhi Daman Na Bhinge Aansu Se Magar
Dil Ka Rona Rukna Namumkin Hai

Advertisements

Leave a Reply