शायरी – अपने इश्क की दर्द भरी कहानी

new prev new shayari pic

उठी जो सर्द हवा, रोज बरस गया पानी
आह भरके सावन की गुजर गई है जवानी

सुनाता रहता है मौसम का ये रोना मुझे
रोज अपने इश्क की दर्द भरी कहानी

Uthi jo Sard Hawa, Roj Baras Gaya Paani
AAh Bharke Saawan ki Guzar Gayi hai Jawani

Sunata Rahta Hai Mausam Ka Ye Rona Mujhe
Roj Apne Ishq Ki Ek Dard Bhari Kahani

©rajeev singh shayari

Advertisements

Leave a Reply