दिल लगाने की शायरी इमेज

शायरी – बस यही गिला है हमें अपनी नाकाम जिंदगी से

new prev new shayari pic

बस यही गिला है हमें अपनी नाकाम जिंदगी से
एक ख्वाहिश थी आखिरी, तू हमें मिल न सकी

कहां सात जनम तक साथ निभाने का वादा था
कहां सात कदम भी तू मेरे साथ चल न सकी

अब किसी से दिल लगाने का जी नहीं करता
मोहब्बत एक बार जो गिरी फिर संभल न सकी

खुद अपना ही भरोसा था कि जिंदा रहा वरना
तू तो अपने आशिक की जिंदगी बदल न सकी

 

©rajeev singh shayari

Advertisements