2 लाइन शायरी 2 line shayari

शायरी – बरस रहे हैं इश्क के बादल

दिल से जो निकलती हैं आहें तुमको ही देती हैं रोज सदाएं बरस रहे हैं इश्क के बादल आओ हमदोनों इसमें नहाएं

new prev new shayari pic

दिल से जो निकलती हैं आहें
तुमको ही देती हैं रोज सदाएं

बरस रहे हैं इश्क के बादल
आओ हमदोनों इसमें नहाएं

उतना ही क्यों दूर जाती हो
हम तुम्हारे जितने पास आएं

तन्हा सफर को मंजिल मिले
कभी तो पूरी हो ऐसी दुआएं

©rajeevsingh             शायरी

prev shayari green next shayari green

Advertisements

Leave a Reply