दीवानों को पत्थर शायरी इमेज

शायरी – रंग लिया जबसे हाथ मोहब्बत के खून से

new prev new shayari pic

रंग लिया जबसे हाथ मोहब्बत के खून से
तबसे रिश्तेदार जी रहे कितने सुकून से

सदियों से कैद है लैला घर की दीवारों में
घरवालों को दुश्मनी है मजनू के जुनून से

दीवानों को देखते ही पत्थर ही मारेंगे वो
और क्या उम्मीद रखें लोगों के हुजूम से

फिर भी हो रहे पैदा लैला मजनू बस्ती में
रोज छपता है अखबार उनके ही खून से

©rajeevsingh         शायरी

prev shayari green next shayari green

Advertisements

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s