4 लाइन शायरी 4 line shayari

शायरी – इंतजार के लम्हे पानी सा दरिया में बहते हैं

एक आस हर पल उपकता है बुलबुलों की तरह

इंतजार के लम्हे पानी सा दरिया में बहते हैं

चांद है कैद यूं दरिया की गहराई में

जैसे मेरे दिल में आप बसे रहते हैं

Advertisements

Leave a Reply