4 लाइन शायरी 4 line shayari

शायरी – जी लेता हूं खामोशियों के तराने में

मुझे अपनी तन्हाई मिटाने की आदत नहीं

इसलिए रहता हूं दूर कहीं वीराने में

जहां न कोई शोर है, न कोई होड़ है

जी लेता हूं खामोशियों के तराने में

Advertisements

Leave a Reply