शायरी – जैसे बिना चाँद के आसमा बेमतलब है

जज़्बातों के बिना जिंदगी बेमतलब है

जैसे बिना चाँद के आसमा बेमतलब है

Advertisements

Leave a Reply