शायरी – कौन पकड़कर रख सका मौसमों का दामन

कौन पकड़कर रख सका मौसमों का दामन

आज बहार है तो कल खिजाँ भी आएगी

Advertisements

Leave a Reply