शायरी – जहां दुश्मन रहते हों खुद अपने ही मकान में

new prev new shayari pic

दिल से निकली आह खो गई आसमान में
कोई सुनता नहीं दास्तां दुनिया जहान में

हर तरफ यहां सबको इश्क की तलाश है
मगर दिल ही नहीं उनके जिस्मो जान में

चलिए अब क्या करना ऐसे बस्ती में रहकर
जहां दुश्मन रहते हों अपने ही मकान में

मैं भटकूं तो मुझे दुनिया में न लाना जिंदगी
लौटके आना नहीं है इस जिंदा श्मशान में

©राजीव सिंह शायरी