शायरी – तुम लफ्ज़ बन कागज़ पे उतर जाती हो

जब याद करता हूँ तुम आ जाती हो

जब रो पड़ता हूँ तुम छलक जाती हो

लिखने को जब मैं उठाता हूँ कलम

तुम लफ्ज़ बन कागज़ पे उतर जाती हो

Advertisements

One thought on “शायरी – तुम लफ्ज़ बन कागज़ पे उतर जाती हो”

  1. 💞💕कलम कागज़ का रिश्ता अजीब
    होता हे,
    चलती हे कागज़ के सीने पर दर्द बयां करने को..!!
    और कागज़ उस दर्द को सीने में दफ़न कर लेता हे…..💕💞
    🌺🌺

    Like

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.