रिश्ता शायरी

शायरी – ऐसी बस्ती में रो रहे हैं पत्थर कई

दूसरों की तरक्की से परेशान होकर ठीक से सो नहीं पा रहे हैं नजर कई

new prev new next

धन-दौलत के लिए लड़ रहे हैं शहर कई
इस आग में जल रहे हैं शहर कई

और पाने की चाहत में दुखी रहते हैं
ऐसी बस्ती में रो रहे हैं पत्थर कई

दूसरों की तरक्की से परेशान होकर
ठीक से सो नहीं पा रहे हैं नजर कई

होड़ ऐसी है खजाने को पा लेने की
अपने रिश्तों में उठ रहे हैं खंजर कई

©RajeevSingh

Advertisements

Leave a Reply