शायरी – इश्क करते हैं हम एक खुदगर्ज से

दिल टूट रहा है तेरे दर्द से
हम मरते रहे हर पल इस मर्ज से
तेरे इश्क में ये समझ न सका
इश्क करते हैं हम एक खुदगर्ज से
हम अंधरे में अब क्यूं न रहें
उजाले ही लगते जब बेदर्द से

Advertisements

कमेंट्स यहां लिखें-

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s