शायरी – तुम बरसों बाद रू ब रू आई हो

हमने तुमको अपना समझा जबसे

माथे के शिकन में बसाया तबसे

तुम बरसों बाद रू ब रू आई हो

क्या मालूम तुझे, मैं राह देख रहा कबसे

Advertisements

Leave a Reply