शायरी – कभी पूरी नहीं होती तमन्ना मेरे हर गम की

कभी पूरी नहीं होती तमन्ना मेरे हर गम की

मिलती नहीं है इक झलक मुझे अपने सनम की

Advertisements

Leave a Reply