शायरी – ख्वाब में जो आते हो ऐ मेरे हमसफर

ख्वाब में जो आते हो ऐ मेरे हमसफर

नींद में ही कभी हम मर जाएं न कहीं

Advertisements

One thought on “शायरी – ख्वाब में जो आते हो ऐ मेरे हमसफर”

Leave a Reply