शायरी – गर्दिशों में आखिर कौन किसका होता है

गर्दिशों में आखिर कौन किसका होता है

यूं तो आते हैं कई मैयत पे रोने के लिए

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.