मुहब्बत शायरी

शायरी – कितनी बार गुजर गई तुम मेरे करीब से

हम हैं कहीं दूर बैठे तेरी याद में तन्हा मगर दर्द के सिवा मेरे दिल को क्या हासिल कितनी बार गुजर गई तुम मेरे करीब से तेरी परछाई के सिवा आईने को क्या हासिल

prevnext

हम हैं कहीं दूर बैठे तेरी याद में तन्हा
मगर दर्द के सिवा मेरे दिल को क्या हासिल

कितनी बार गुजर गई तुम मेरे करीब से
तेरी परछाई के सिवा आईने को क्या हासिल

ये दिल इतना बेबस है, कुछ कह नहीं सकता
आलमे-खामोशी में आंसुओं को क्या हासिल

दूर हो इतनी फिर भी तेरे आने का शुक्रिया
याद बनके सही, मुझे इतना तो है हासिल

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

One comment

Leave a Reply