शायरी – जब जख्मों का कोई हिसाब ही नहीं

मेरे जीवन में तजरबों की कमी क्या होगी

जब जख्मों का कोई हिसाब ही नहीं

Advertisements

2 thoughts on “शायरी – जब जख्मों का कोई हिसाब ही नहीं”

Leave a Reply