शायरी – वो दरिया को देखता है आईने की तरह

पास दरिया है मगर उसमें एक पत्थर नहीं फेंका

वो दरिया को देखता है आईने की तरह

Advertisements

One thought on “शायरी – वो दरिया को देखता है आईने की तरह”

Leave a Reply