शायरी – तुम भी आए हो राहों के ठोकर की तरह

गिरते पड़ते हुए हमने भी जीना सीखा

तुम भी आए हो राहों के ठोकर की तरह

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.