शायरी – सबमें बसा है तेरा साया

prevnext

दर्द अपना हो या पराया
सबमें बसा है तेरा साया

खुशियों का घर कहीं न देखा
मंदिर-मस्जिद तक हो आया

जबसे रूह की आहट पाई
दुनिया लगने लगी पराया

अब तक थे हम ठहरे पानी
तुमने हमको दरिया बनाया

©RajeevSingh

Advertisements