शायरी – इश्क हटा दोगे सीने से, आखिर क्या रह जाएगा

prevnext

इश्क हटा दोगे सीने से, आखिर क्या रह जाएगा
तब तो तेरा जिस्म सलोना, बुत जैसा रह जाएगा

मुरादों की इस दुनिया में मेरी चाहत कुछ भी नहीं
तू मुझे जो मिल न सकी, बस ये गम रह जाएगा

मेरी मानो तो धरती पर दो ही चीजें अपनी हैं
दिल का दर्द औ खारा आंसू, आखिर में रह जाएगा

शब से नाता है पुराना, सहर से कभी मिल न सके
दिन में दिल तो सो लेगा, रात में तन्हा रह जाएगा

शब- रात
सहर-सुबह

©RajeevSingh

One thought on “शायरी – इश्क हटा दोगे सीने से, आखिर क्या रह जाएगा”

Comments are closed.