शायरी – तेरी खामोशी किसी सदमे की निशानी है

prevnext

तेरी खामोशी किसी सदमे की निशानी है
तेरी आंखों में गहरे जख्म का पानी है

जो गुलाबी बदन में दर्द को भर दे
उस कांटे का एक नाम बस जवानी है

इन खुली जुल्फों में आवारगी सी लगती है
तेरी बिखड़ी लटें तेरी तरह दीवानी है

रोग ऐसा है तो मरहम जाने क्या होगा
दिले-नादां की ये पीड़ भी अंजानी है

©RajeevSingh

Advertisements