शायरी – जो खो गया है वही बस है अपना, जो बचा है उसे वहम कहिए

prevnext

इसे मुहब्बत का दर्दो-गम कहिए
या बदनसीबों का कफन कहिए

जो खो गया है वही बस है अपना
जो बचा है उसे वहम कहिए

जब दीवारों में कोई अपना दिखे
उसे ही दुनिया में सनम कहिए

चाहत में जो आपके लिखता है गजल
ऐसे शायर को न बेरहम कहिए

©RajeevSingh

One thought on “शायरी – जो खो गया है वही बस है अपना, जो बचा है उसे वहम कहिए”

Comments are closed.